Google+ Badge

आज दिनांक २७ जून २०१३, अवसर भारतीय मजदूर संघ के प्रदेश कार्यालय का भोपाल में उदघाटन समारोह | बहुत दिनों बाद सुश्री उमा भारती जी को सुनने का मौका मिला | प्रभावी वक्ता तो वे हैं ही | उनके भाषण के कुछ अंश मुझे अच्छे लगे, वे मित्रों से साझा कर रहा हूँ |
* राम जन्म भूमि आन्दोलन के बाद मैं भोपाल से लोकसभा का चुनाव लड़ी | उस समय अल्पसंख्यक बहुल क्षेत्र में कुछ लोग मेरे गले में हरा दुपट्टा डालने लगे | मैंने उन्हें तुरंत मना किया तो कुछ सदाशयी बोले, इसे गले में डाल लेने से अच्छा संकेत जाएगा | किन्तु मैंने कहा मैं न उनसे गले में केसरिया डालने को कहूँगी, न खुद हरा अपने गले में डालूँगी | बाद में यह आम चर्चा थी कि मुस्लिम वोट ९५ प्रतिशत गिरेगा तथा शत प्रतिशत उमा जी के विरुद्ध जाएगा | किन्तु लोग आश्चर्य चकित रह गए जब मुस्लिम वोट केवल २५ प्रतिशत ही गिरे | इस पर कुछ कांग्रेसी मित्रों ने एक मौलवी साहब से इसका कारण पूछा तो उन्होंने जबाब दिया "बेईमान दोस्त से ईमानदार दुश्मन बेहतर होता है |"

* एक बार माननीय दत्तोपंत जी ठेंगडी ने एक प्रसंग मुझे सुनाया कि जब जवाहरलाल जी संघ पर प्रतिवंध लगाने जा रहे थे, उस समय श्री डी पी मिश्रा ने उनसे कहा कि संघ के लोग संघर्ष के आदी हैं, इसलिए प्रतिवंध तो उनको और बढ़ाएगा | यदि इन्हें कमजोर करना है तो सुविधाभोगी बना दो, ये स्वतः समाप्त हो जायेंगे |

* केदारनाथ त्रासदी का मुख्य कारण केदार नाथ से तीन किलोमीटर ऊपर स्थित गांधी सरोवर है, जहां गांधी जी की अस्थियाँ विसर्जित हुई थीं | हिमालय के समस्त सरोवर प्राकृतिक हैं जिनसे पानी रिसता रहता है व संतुलन बना रहता है | किन्तु अति उत्साह में वहां उस सरोवर को सीमेंट लगाकर पक्का बना दिया गया | जिसके कारण जब ज्यादा वर्षा में वह पूरा भर कर ओवरफ्लो हुआ तो अपनी सारी संरचना को भी तोड़ता हुआ विनाश कारी रूप से नीचे आया | वहां स्थित ग्लेशियर भी धराशाई हो गया | जिन लोगों ने केदार धाम में मृत्यु पाई, वे तो निश्चय ही शिवधाम को जायेंगे, मोक्ष प्राप्त करेंगे, किन्तु प्रकृति से छेड़छाड़ करने वाले गांधी सरोवर के पापियों को नरक में भी जगह नहीं मिलेगी |

English translation -
Today, June 27, 2013 event, the state Bharatiya Mazdoor Sangh office opening ceremony in Bhopal. After a long time had a chance to listen to most effective speaker Uma Srii Bharati Ji. With friends 'm sharing the points of her speech which I liked -

* After Ram Janma Bhoomi movement, I fought the Lok Sabha elections from Bhopal. During election campaign Some people wish to put a green scarf around my neck.I deny them immediately but some well wisher told me that the message convey by it in right direction. I told them that I will not ask tham to put saffron in their neck, at the same time I will not like to put green in my neck.after this it was the general openione that Muslim vote will fall 95 per cent and against the Uma bharati hundred percent. But surprisingly Muslim vote were fall only 25 per cent. when a congress leader asked the reason to a Maulavi ji, he answered that "Honest enemy is better than dishonest friend".

* Hon Dattopant ji Thengadi once told me a context that when Jawahar lal Neahru wanted to ban Rashtriy Swayamsewak Sangh, D P Mishra told him that RSS People are accustomed to struggle, so ban will cause to rise them. If you wish to weaken, make them Frat facility. They will finished automatically.

The main cause of the Kedarnath tragedy was the Gandhi Sarovar located three kilometers above from Kedarnath. In this sarovar late Gandhi's ashes were immersed. All lakes in the Himalaya are natural where water seeps in and maintained balance. But zealot person make the sarovar solid by cement pond. Thus they change the natural structure. Due to heavy rain fall causing overflow and breaked whole structure and Glacier too, has also ecological destruction as a come down. Who died at Kedar Dham, they will reach at shiv dham, getting Moksh, but who tampered with nature, sinner of Gandhi Sarovar will not get a place in hell too.

Advertisement

 
Top