Google+ Badge



सम्मुख गाजर लटकी दिखती, कोल्हू बैल घूमता है !
आशा पाश, वासना बंधन मन अनजान डूबता है !!

हाथ सुमिरनी घूमे जिव्हा, राम नाम रटती जाती है !
विष विषयों का पीते पीते, आयु वृथा घटती जाती है !!

मृग मरीचिका के तडाग से, प्यास नहीं बुझती प्यारे |
सांसारिक सुख मिलें घनेरे, आस नहीं रुकती प्यारे !!

क्षुधा वित्त की, तृषा कीर्ति में जीवन खोता !
आत्मरूप का ज्ञान लक्ष्य जीवन धन होता !!



जप. माला, छापा, तिलक भक्ति इनसे भिन्न
भले कहे जग भगत जी, प्रभू ढोंग से खिन्न

प्रभु हाथों में सोंप दें, मन की ये पतवार
बाहर भीतर एक हो, कर्ता हो करतार

प्रेम गली अति सांकरी, जामें दुई न समाये
आनंद नृत्य ही शर्त है, जैसे प्रभु नचाये

हम उसकी इच्छा बुलबुले, हर पल रहता साथ
है दीन दुखी से प्रेम तो, सर जगन्नाथ का हाथ
 

स्वयं प्रभू ही तो बैठे हैं दीन रूप धरकर साकार !
खोटे सिक्के नहीं दया के, सच्ची सेवा की दरकार !!

दाहक होती आह दुखी की सबसे बढ़कर !
सेवा उसकी ही सच्ची प्रभुसेवा हितकर !!

Advertisement

 
Top