Google+ Badge



चूर चूर अभिमान अरे ओ खंड खंड पाखण्ड यहाँ !
इन दोनों को गर अपनाया तो हमसा उद्दंड कहाँ !!

अड़चन अवसर लेकर आतीं, उद्यम में उत्कर्ष रहे !
जो आलस में पड़े रहे तो, अवसर में अपकर्ष गहे !!

श्रम, तत्परता ओ सक्षमता, जागृत बुद्धि कमल खिले !
भक्ति प्रेमरस सरस हुए तो, सर्वेश्वर प्रभु आन मिले !!

मौखिक ही हम कहते फिरते प्रभु बसते मन में मेरे !
उन जैसे कोमल करुणामय, हो पाते क्या कभी अरे !!

आनंद भुवन बन जा मन मेरे, सुख दुःख नहीं सतायेंगे !
सच्ची भक्ति बसी उर में तो, भव सागर तर जायेंगे !!

सदा सर्वदा प्रभु मय रहता, उसकी चिंता प्रभु करते |
अनासक्त जो भक्त जगत में, उसका ध्यान प्रभु रखते !!

Advertisement

 
Top